Hamko Apne Bharat Ki-हमको अपने भारत की

We do not have the Audio (MP3) of this song available on this website. If you have the audio, please send it to us by uploading it here. Thanks!

हमको अपने भारत की, माटी से अनुपम प्यार है ।
माटी से अनुपम प्यार है, माटी से अनुपम प्यार है ॥ध्रु॥

इस धरती पर जन्म लिया था, दशरथ-नंदन राम ने ।
इस धरती पर गीता गायी, यदुकुल-भूषण श्याम ने ।
इस धरती के आगे झुकता, मस्तक बारम्बार है ॥१॥

इस धरती की गौरव-गाथा, गायी राजस्थान ने ।
इसे पुनीत बनाया अपने, वीरों के बलिदान ने ।
मीरा के गीतों की इसमें, छिपी हुई झंकार है ॥२॥

कण-कण मंदिर इस माटी का, कण-कण में भगवान है ।
इस माटी से तिलक करो, यह अपना हिन्दुस्थान है ।
हर हिंदु का रोम-रोम, भारत का पहरेदार है ॥३॥

हमको अपने भारत की, माटी से अनुपम प्यार है ।
माटी से अनुपम प्यार है, माटी से अनुपम प्यार है ॥

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options